अजमेर – थ्री फेस कृषि आपूर्ति करने पर डिस्कॉम सख्त ,24 सहायक अभियंताओं और 42 कनिष्ठ अभियंताओं को नोटिस जारी

निर्धारित अवधि से अधिक थ्री फेज कृषि आपूर्ति करने पर डिस्कॉम सख्त*
*24 सहायक अभियंताओं, 42 कनिष्ठ अभियंताओं को दिए नोटिस*
*11 संविदा ठेका फर्मों से होगी 30.42 लाख रुपयों की वसूली*
अजमेर डिस्कॉम ने थ्री फेज कृषि कनेक्शनों में निर्धारित अवधि से अधिक आपूर्ति करने पर 24 सहायक अभियंताओं व 42 कनिष्ठ अभियंताओं को नोटिस थमाएं है। साथ ही 11 संविदा ठेका फर्मों पर कार्यवाही करते हुए 30.42 लाख रूपये की वसूली के आदेश जारी किए हैं।

अजमेर विद्युत वितरण निगम के प्रबन्ध निदेशक  वी.एस. भाटी ने बताया कि अजमेर डिस्कॉम के ग्रामीण क्षेत्रों में 33/11 केवी के सब स्टेशन का संचालन व रखरखाव ठेके पर दिया हुआ है। इन सब स्टेशन द्वारा कृषि कनेक्शनों में निर्धारित अवधि से अधिक थ्री फेस आपूर्ति की लगातार शिकायतें मिल रही थी। इस पर प्रबन्ध निदेशक ने डिस्कॉम की एमएण्डपी शाखा द्वारा इन 33/11 केवी जीएसएस से निकलने वाले 11 केवी फीडरों की जांच करवाई। लोड सर्वें लेने पर जांच में पाया गया कि इन फर्मों द्वारा 5 लाख 48 हजार 94 यूनिट की अधिक सप्लाई की गई थी। इस पर प्रबन्ध निदेशक कडा रूख अपनाते हुए इन सभी 11 फर्मों पर कुल 30 लाख 41 हजार 923 रूपये की वसूली के आदेश दिए।
उन्होंने बताया कि अधिक विद्युत आपूर्ति देने वाले 24 सहायक अभियंता व 42 कनिष्ठ अभियंताओं पर अनुशासनात्मक कार्यवाही के निर्देश दिए। डिस्कॉम द्वारा इन सभी 66 अभियंताओं को नोटिस जारी कर दिए गए है।  भाटी ने बताया कि भविष्य में कोई भी अधिकारी व कर्मचारी ऎसे किसी भी कृत्य में लिप्त पाया जाता है तो उसके खिलाफ सख्त से सख्त अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी।
इन 11 फर्मों पर हुई कार्यवाही
प्रबन्ध निदेशक  वी.एस. भाटी ने बताया कि कृषि कनेक्शनों में निर्धारित अवधि से अधिक थ्री फेस आपूर्ति पाए जाने पर मैसर्स अनगढ़ इलेक्ट्रीकल्स, राजेन्द्र सिंह पुरावत, सिरसा बंसीवत कोर्पोरेटिव लेबर एण्ड कन्सट्रक्शन, क्रिस ट्रेड क्रोरप प्राइवेट लिमिटेड, शाह इलेक्ट्रीक्लस, श्री गणपति इलेक्ट्रीकल्स, सांधा एण्ड कम्पनी, महालक्ष्मी एण्टरप्राइसेस, श्रीराम इलेक्ट्रीक एण्ड कन्सट्रक्शन, प्रिंस इलेक्ट्रीकल्स एवं किशन इलेक्ट्रीक वर्कस फर्मों पर कार्यवाही हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!