अजमेर – गांधी दर्शन को जन-जन तक पहुंचाने का लिया संकल्प

स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष तथा महात्मा गांधी के 150 वीं जयन्ती वर्ष के उपलक्ष्य में आयोजित अमृत महोत्सव कार्यक्रमों की श्रंखला में शुक्रवार को दांडी यात्रा एवं शांति मार्च का आयोजन कर गांधी दर्शन को जन-जन तक पहुंचाने का संकल्प लिया गया।

जिला कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने बताया कि महात्मा गांधी के 150 वें जयन्ती वर्ष तथा स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ पर कार्यक्रमों की श्रृंखला देशभर में आयोजित की जा रही है। अजमेर में आनासागर चौपाटी से जेएलएन मेडिकल कॉलेज तक दांडी यात्रा मार्च निकाला गया। दैनिक नवज्योति के प्रधान संपादक दीनबंधु चौधरी ने मार्च को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। स्वतंत्रता सैनानी शोभाराम गहरवार, पूर्व विधायक डॉ. श्रीगोपाल बाहेती एवं डॉ. राजकुमार जयपाल तथा संभागीय आयुक्त डॉ. वीना प्रधान भी उपस्थित रहे। दांडी यात्रा शांति मार्च का विभिन्न स्थानों पर पुष्प वर्षा के साथ स्वागत किया गया। मेडिकल कॉलेज में दांडी यात्रा एवं गांधी दर्शन के संबंध में गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी में स्वतंत्रता सेनानी शोभाराम गहरवार का अभिनन्दन किया गया।

गांधी जीवन दर्शन समिति के संयोजक एवं पूर्व विधायक डॉ. श्रीगोपाल बाहेती ने गोष्ठी में कहा कि अमृत महोत्सव के अन्तर्गत पूरे देश में कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे है। इन आयोजनों का उद्देश्य भारत के प्रत्येक नागरिक तक गांधी जी के विचारों को पहुंचाना है। महात्मा गांधी की सोच के अनुरूप देश के संसाधनों का लाभ अन्तिम पंक्ति में बैठे व्यक्ति तक पहुंचना चाहिए। इस दिशा में सरकार ने वर्तमान बजट में गांधी के ग्राम स्वराज के सपनों को साकार किया है। सरकार द्वारा युवा समन्वयक नियुक्त किए जाएंगे। इनके द्वारा योजनाओं को क्षेत्र में पहुंचाने का कार्य किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने नमक पर कर का एक नए तरीके से विरोध किया। इसके परिणामस्वरूप पूरे देश में जाग्रति आई। तत्कालीन सरकार से महात्मा गांधी ने नमक जैसी आवश्यक वस्तु पर कर नहीं लगाने का आग्रह किया। इसे अंग्रेज सरकार ने अनसुना कर दिया। इसके विरोध में महात्मा गांधी द्वारा प्रतीकात्मक रूप से बनाया गया नमक आजादी के आन्दोलन का ध्वजवाहक बना।

उन्होंने कहा कि देश के विकास को घर-घर तक पहुंचाने के लिए दांडी मार्च की आवश्यकता है। विकास में ग्राम पंचायत की सर्वाधिक भूमिका सुनिश्चित होने से ही वास्तविक ग्राम स्वराज आएगा। वर्तमान जिला कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित के कक्ष का दरवाजा सभी के लिए हमेशा खुला रहता है। इससे आमजन में सरकार के प्रति विश्वास बढ़ता है। विकास कार्यों की गति तीव्र होती है। संभागीय आयुक्त डॉ. वीना प्रधान द्वारा क्षेत्र में भ्रमण करके वस्तुस्थिति की जानकारी लेने से सरकार के पास क्षेत्र की वास्तविक स्थिति की जानकारी पहुंचती है। सरकार के प्रत्येक स्तर पर कार्यों की जिम्मेदारी तय होनी चाहिए।

संभागीय आयुक्त डॉ. वीना प्रधान ने कहा कि महात्मा गांधी द्वारा 1930 में नमक बनाने का प्रतीक आज गहरे अर्थों के साथ संदेश देता है। उन्होंने इस आन्दोलन से अंग्रेज साम्राज्य की नींव हिलाने का कार्य किया। पूर्व विधायक राजकुमार जयपाल ने कहा कि द्वितीय विश्व युद्ध में हिंसा के दौर के समय केवल महात्मा गांधी ने ही अहिंसा का संदेश दिया था। इसे वर्तमान में विश्व आत्मसात कर रहा है।

गांधी दर्शन समिति कि सहसंयोजक शक्ति प्रताप सिंह ने कहा कि गांधी दर्शन के माध्यम से नई पीढ़ी को संस्कारवान बनाया जा सकता है। सरकार तथा गांधी दर्शन समिति गांधी दर्शन को जन-जन तक पहुंचाने के लिए संकल्प बद्ध है। प्रत्येक व्यक्ति द्वारा महात्मा गांधी के कार्य एवं विचारों को जीवन में उतारने से वास्तविक स्वराज को महसूस किया जा सकता है। गोष्ठी में डॉ. लता अग्रवाल एवं अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी मुन्नी देवी ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

इस अवसर पर नगर निगम आयुक्त खुशाल यादव, पार्षद द्रोपदी देवी, सौरभ बजाड़, उमेश शर्मा आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!